फूल लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
फूल लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

रविवार, 17 फ़रवरी 2013

"एक कली"





मैंने एक कली को देखा
जो कर रही थी इंतजार 
पल पल क्षण क्षण 
अपने खिल जाने का 
अपने मुस्कराने का 
अपनी खुशबु सिमटने का 
आखिर वह दिन आ ही गया 
कली अधखिली और 
आगे खिलने  लगी
मंद मंद पवन के साथ 
झूम कर  खिलखिलाने लगी 
फैला खुशबु उपवन में 
भौरे करने लगे गुंजन
कोयल भी प्रेमगीत गाने लगी।


"अक्स खुशबु हूँ बिखरने से न रोके कोई
और बिखर जाऊं तो मुझको न समेटे कोई"

                                                                                                (आभार )
                                                                                                                                                                                                                                                               

गुरुवार, 14 फ़रवरी 2013

फूल





तुमने कहा था-तुम्हे फूल बहुत पसंद हैं
और इसीलिए मैं 
ढेर सरे फूलों के बीज  लेकर आया हूँ 
किन्तु 
तुम्हारे घर के पत्थरों  को देखकर 
सोचता हूँ  
इन बीजों को क्या करूं 
अच्छा होता 
मैं इन बीजों के साथ 
मुठ्ठी भर मिट्टी भी लाता 
और अँजुरी हथेली में ही 
हथेली की ऊष्मा तथा तुम्हारी आँखों की नमी से 
अँजुरी भर फूल उगाता।

 
 
हमने तो हमेशा काँटों को भी नरमी से छुआ है,
लेकिन लोग वेदर्दी हैं फूलों को भी मसल देते। 
                                                                                     (आभार डॉ रिपुसूदन जी का)

                                                                     


            

You might also like :

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...