बेबसी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
बेबसी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

मंगलवार, 19 फ़रवरी 2013

तकदीर के मारे




           

             तूफां से डरकर लहरों के बीच  सकारे   कहाँ जाएँ,
             इस जहाँ में भटककर तकदीर के मारे कहाँ जाएँ ।
                              अब तो  खिंजा  भी गुल  खिलाने  लगे है,
                              अपनी बेबसी  को लेकर बहारें कहाँ जाएँ।
            उम्मीदे थी जिसकी चाहत का ...........हमेशा,
            हम तुमसे छुड़ाकर दामन बेसहारे कहाँ जाएँ।
                              उजाला हैं जहाँ में ऐ चाँद तेरी चांदनी से,
                              बता फलक के अभागे सितारे कहाँ जाएँ।
           नाम था लबों पे खुद के बाद तुम्हारा ऐ हंसी,
           तुम्हारे  नाम का वो जहां के लुटेरे कहाँ जाएँ।
                              हंसी मंजर था चाहत के लम्हे गुजरा था ऐ "राज"
                              सिसक-सिसक कर  वो रंगीन नजारें कहाँ जाएँ।

                                              

                              जब  नाव  जल  में छोड़  दी तूफ़ान  में ही  मोड़ दी,
                              दे दी चुनौती सिन्धु को तो धार क्या मझधार क्या !

                                                                                                           (सादर आभार)
                                       

मंगलवार, 5 फ़रवरी 2013

"क्या हो गए हैं यारों"




हम क्या थे अब क्या हो गए हैं यारों,
भूल अपनी मर्यादा बेपर्दा हो गए यारों।

चारो तरफ है फैला जुर्म का काला साया,
               अब साये से भी डर लगने लगा है यारों।

 
   रौशनी की फ़िक्र करता नही है अब कोई, 
हर तरफ तूफां का आलम सा है यारों।
 
लूट-खसोट,अत्याचार का है बाजार गर्म,
दरवाजे तो है बंद जाएँ तो किधर यारों।
 
उठ रहा हर तरफ बेबसी का धुंआ ही धुआं,
अब तो साँस लेना भी हो गया दूभर यारों।
 
तन पर न हो कपड़ा पावों से ढक लेंगे लाज को,
पर पावों को भी खिचने वाले हैं बहुत यारों।
 
रोज ही नए नए मंजर सामने आने लगे है,
हँसते हँसते ही लोग चिल्लाने लगे हैं यारों। 
 
देख दुर्दशा देश की बहुत दूर निकल आयें,
सात समन्दर पार  भी न चैन आया यारों।
 
                                                                                                                                                        

12 12

चलते चलते ..........
                           अब तो घबड़ा के यह कहते है कि मर जायेंगे,
                           मर कर  भी  चैन न पाया तो किधर  जायेंगे।

You might also like :

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...