यादें लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
यादें लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शनिवार, 6 अप्रैल 2013

माँ की ममता :हाइकू








१.
माँ का आँचल 
कोमल अहसास

सदा पावन

२.

माँ का दुलार

ममता भरी छावं 

सुखद यादें 
३.
माँ से जीवन 
तन मन हरसे 
खुशियाँ लाये
४.
माँ क्या होती है ?
दया की प्रतिमूर्ति 
अमर  स्रोत 
५.
दूध का कर्ज 
ऋण है जीवन में
अनमोल है 

६.
बरसो बीते 
माँ से बिछड़ते 
दर्द में डूबे 
७.
रक्षा करता 

बीच मझधार में

माँ का आशीष 




"माँ पर कुछ लिखना आसान नहीं होता, लेकिन यह भी है कि माँ पर लिखना सबसे ज्यादा हीं संतोषप्रद होता है।"

शुक्रवार, 1 मार्च 2013

माँ,तुम्हारी यादें





माँ,
आज आ रही है 
तुम्हारी यादें बहुत 
तन्हा छोड़ मुझे 
जल्दी चली गयी तू 
हर पल रखा 
मेरी  ही खुशियों का ख्याल 
कभी भी न आने दी आँखों में नमी 
अब हर पल रहती 
तेरी यादों में आँखें नम 
तुम्हारी लोरियों की गूंज 
अब भी गूंज रही कानो में 
नहीं कर पा  रहा समझौता 
वीराने जिन्दगी से
आदत जो रही 
तुम्हारी प्यार दुलार का 
दुलार भरा हाथों का स्पर्श 
महसूस करता स्वप्निल नींद में 
फूलों जैसे  गोद में मचलना 
तुम्हारा मुस्कराना 
नींद से जग जाता अचानक 
ढूढने लगता तुम्हार चेहरा 
चमकते चाँद सितारों में 
माँ,तुम याद आ रही हो बहुत। 









 

You might also like :

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...