रौशनी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
रौशनी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

सोमवार, 10 दिसंबर 2012

दिवाली की रौशनी


फिर दिवाली ला रही है रौशनी ,
मुश्किले बिखरा रही है रौशनी।
                 कहकहे थोड़े ब्यथाएँ अनतुली,
                 इस कदर  तरसा रही है रौशनी।
पथ प्रदर्शन की प्रथा को तोडकर,
और भी भटका रही है---रौशनी।
                 रश्मियों का दान लेकर सूर्य से,
                 चांदनी  कहला  रही है  रौशनी।
चाहते है जो कैद करना सूर्य को,
उन्ही को मसला रही है रौशनी।
                सूर्य,दीपक और जुगनु है गवाह,
                रौशनी  को  खा रही है- रौशनी।
दोस्तों तुम से शिकायत क्या करें,
जब हमे  फरमा  रही है--- रौशनी।
              "राज" कालगति किरणों को समझ ले,
               अन्यथा ज्वाला बन कर आ रही है रौशनी।

गुरुवार, 6 दिसंबर 2012

रौशनी- गज़ल

मसरूफ हुए इतने हम दीप जलाने में,
घर को ही जला बैठे दिवाली मनाने में।
            ये दौर गुजरा है बस उनको मनाने में,
            क्या होगा खुदा अब अगले जमाने में।
मिट्टी के घरौदे वो याद  आज भी आते हैं,
 हम तुम बनाते थे बचपन के जमाने मैं।
            लग जाएगी लगता है अब और कई सदियाँ,
            इस दौर के  इंसा--  को  इन्सान  बनाने  में।
देखा जो तुम्हे मैंने महसूस हुआ यारब,
सदियाँ तो लगी होगी ये शक्ल बनाने में।
            हँस कर मुझे न देखो जज्बात जल न उठे,
            अब  चिंगारी ही काफी है आग लगाने में।
सब तुम पर निछावर  है वस  निछावर  है,
है रौशनी जितनी भी "राज" के खजाने में।





You might also like :

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...