KAVITA लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
KAVITA लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शनिवार, 24 अक्तूबर 2015

"आनन्द"

happiness के लिए चित्र परिणाम
वह आनन्द क्या है,
जिसे मैं खोज रहा हूँ?
दौड़ जीतना  तो नहीं,
बल्कि असफलता का परिचय पाना है,
क्योकि इसी के द्वारा  मैंने दौड़ना सीखा है। 
संदेहों से भयभीत नही होना है,
क्योकि इन्होने ही मुझे दिखाया कि कहाँ पथ संकीर्ण है-
निकल पाना दुष्कर है। 
जब भी क्लान्ति और पीड़ा ने घेरा 
अपने चतुर्दिक फैली शक्तियों के माध्यम से 
मैं अपनी क्षमतावर्द्धन के मार्ग ढूंढ लेता हूँ। 
और खड़ा हो जाता हूँ-
विश्व संरचना की पंक्ति में 
चकित, विस्मित, पुलकित !

मंगलवार, 2 अप्रैल 2013

"खुली आँखों से ख्वाब"





                                                                                                                                                                 
देखता रहा,
खुली  आँखों से ख्वाब
जहां में फैली हुई
हैवानियत के मंजरों को
हर पल होते हुए
कत्ल,चोरी.रहजनी और दुराचार को 
सुख-चैन लूटते हाथों से
मिलती ब्यथाएं अनतुली
थरथराती बुनियादें
दम बेदम फरियादें
खौफ का एहसास कराती
खून से लथपथ हवायें
शाम होते ही
सिमटते सारे रास्ते
मची है होड़ हर तरफ
धोखा,झूठ,फरेब और बेईमानी की
नेकी की राहों में फैली
बिरानगीं और तीरगी का बसेरा
पहलू बदल कर ली अंगडाई
पर न कोई इन्कलाब दिखा
जी रहे हैं सभी यहाँ
आपसी रंजिसों के साथ
भला कब तक ?
ये भी कोई जीना है.
                                                                                                  

मंगलवार, 26 फ़रवरी 2013

दूरियाँ



 







पिघलती बर्फ पर चलना
जितना मुश्किल है,
उससे अधिक मुश्किल है
तुम्हारी आँखों को पढ़ना।
सारे शब्द
जंगल के वृक्षों पर
मृत सर्पों की तरह लटके हैं
क्योंकि ये तुम तक किसी तरह
पहुँच नहीं सकते
और जो मुझ तक
पहुँचते हैं
वे सिर्फ दस्तक देते हैं
द्वार खुलने की प्रतीक्षा नहीं करते।
******************

माना  की  प्यार  मेरा  इक  धोखा  है ...
कुछ धोखे भी बहुत हसीन हुआ करते है।                                  (आभार-कालांतर) 

 

मंगलवार, 22 जनवरी 2013

सुख-दुःख




                   


                            जीवन मृत्यु तो एक परम सत्य, 
                            फिर क्यों मृत्यु से भय खाते हो।
                            हर पल सुख के सागर में डूबे,
                            अब दुःख में क्यों घबडाते हो।
                            सुख-दुःख तो चलते चक्र से,
                            एक जाता एक आता है।
                            दुःख जायेगा सुख आएगा,
                            अब क्यों मातम मनाते हो।
                            जीवन भर किया मनमानी,
                           उम्र गुजार दी रंगरेलियों  में।
                           सुख के क्षणों में भूल गये दाता को,
                           अब क्यों त्राहि माम की गान सुनते हो।
                           सुख तो चार दिन की चाँदनी,
                           फिर अँधेरों  से क्यों घबराते हो।
                           हे मानस के "राज"हँस,
                           सुख-दुःख की चिंता छोड़ो,
                           इह लोक में करो पूण्य-कर्म ,
                           परलोक तो सुधर जायेगा।
                           जीवन-मृत्यु तो एक परम सत्य,
                           एक दिन सबको चले जाना है।
  

You might also like :

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...