गुरुवार, 10 जनवरी 2013

गुफ्तगु

आज का दिन  बड़ा ही  सुहाना  है, सोचा कुछ  शेर-औ-शायरी  ही हो जाय,सो पेश है चंद कतरे ............. 



               गुलशन में मंदपवन को तलाश तेरी है,
               बुलबुल की जुबां पर गुफ्तगु ....तेरी है।
               हर रंग में जलवा है तेरी कुदरत का ,
               जिस फूल को सूँघता हूँ खुशबु तेरी है।
     

                     इस रास्ते के नाम लिखो एक शाम और,
              या इसमें रौशनी का करो इतजाम  और।
              आंधी में सिर्फ हम ही उखड़ कर नही गिरे,
              हमसे जुड़ा  हुआ था कोई नाम ..... और।
                                                

You might also like :

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...