मंगलवार, 28 जनवरी 2014

सर्दी के दिन:हाइकू


१. 
सर्दी के दिन
ठिठुरते इंसान
लाया कहर 

शीत लहर 
पिया हैं परदेश 
व्याकुल मन 
३. 
सर्द हवाएं 
बेदर्द हुई सर्दी 
आफत आई 

४. 
कापते हाथ 
ठिठुरता बदन 
ओढ  रजाई 
५. 
कंपाती  भोर 
रजाई में दुबके 
सिकुड़े हुए 

६. 
छिपा सूरज 
कुहरे की चादर 
धुंध ही धुंध 
७. 
सर्दी की रात 
काटे नही कटती 
खून जमाती 

८. 
जाड़े की धूप  
गुनगुनाती तपिस 
सुहाना  लगे 
९. 
सर्द मौसम 
अस्त व्यस्त जीवन 
अलाव प्यारा 
१०. 
लाया शिशिर 
सर्दी की  मीठी धूप 
गुलाबी ठंढ 
११. 
सर्द है रात 
वसेरा फुटपाथ 
दीन अनाथ 
१२. 
ओस की बूँदें 
मोतियों से चमके 
मनभावन 

Place Your Ad Code Here

18 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आ० राजेंद्र सर , सुंदर प्रस्तुति व हाइकू , धन्यवाद
      नया प्रकाशन -: Information and solutions in Hindi

      हटाएं
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

    जवाब देंहटाएं
  3. बेहतरीन प्रस्तुति व हाइकू राजेन्द्र जी।

    जवाब देंहटाएं
  4. सर्दियों को बाखूबी बाँधा है इन हाइकू में ...
    लाजवाब ..

    जवाब देंहटाएं
  5. आपकी इस प्रस्तुति को आज की लाला लाजपत राय जी की 149 वीं जयंती और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    जवाब देंहटाएं
  6. संवेदनाओं को झिंझोड़ते मर्म स्पर्शी हाइकू

    जवाब देंहटाएं

आपकी मार्गदर्शन की आवश्यकता है,आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है, आपके कुछ शब्द रचनाकार के लिए अनमोल होते हैं,...आभार !!!