शनिवार, 24 जनवरी 2015

"माँ सरस्वती"





ॐ श्री सरस्वती शुक्लवर्णां सस्मितां सुमनोहराम्।।
कोटिचंद्रप्रभामुष्टपुष्टश्रीयुक्तविग्रहाम्।
वह्निशुद्धां शुकाधानां वीणापुस्तकमधारिणीम्।।
रत्नसारेन्द्रनिर्माणनवभूषणभूषिताम्।
सुपूजितां सुरगणैब्रह्मविष्णुशिवादिभि:।।
वन्दे भक्तया वन्दिता च मुनीन्द्रमनुमानवै:।

आप सभी को माँ सरस्वती पूजा की हार्दिक शुभकामनायें।
Place Your Ad Code Here

17 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्‍दर राजेन्‍द्र जी। बहुत ही सुन्‍दर। आपको वसंत पंचमी की हा‍र्दिक शुभकामनाएं। बहुत सुन्‍दर श्‍लोक प्रस्‍तुत किया है आपने।

    जवाब देंहटाएं
  2. वसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाये

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर. वसंत पंचमी की शुभकामनाएं !

    जवाब देंहटाएं
  4. सार्थक प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (25-01-2015) को "मुखर होती एक मूक वेदना" (चर्चा-1869) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    बसन्तपञ्चमी की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  5. सुन्दर श्लोक ...
    ब्सब्त पंचमी की हार्दिक शुभकामनायें ...

    जवाब देंहटाएं
  6. सुन्दर स्तुति ! जय माँ शारदे !

    जवाब देंहटाएं
  7. वसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाये

    जवाब देंहटाएं
  8. वसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाये

    जवाब देंहटाएं
  9. सुंदर स्तुति....माँ सरस्वती सभी पर ज्ञान रूपी आशीर्वाद बरसाती रहें!!

    जवाब देंहटाएं
  10. उम्दा....बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@मेरे सपनों का भारत ऐसा भारत हो तो बेहतर हो
    मुकेश की याद में@चन्दन-सा बदन

    जवाब देंहटाएं
  11. अध्‍यात्‍म की ओर ले जाने वाली पोस्‍ट।

    जवाब देंहटाएं
  12. Nice Article sir, Keep Going on... I am really impressed by read this. Thanks for sharing with us.. Happy Independence Day 2015, Latest Government Jobs. Top 10 Website

    जवाब देंहटाएं

आपकी मार्गदर्शन की आवश्यकता है,आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है, आपके कुछ शब्द रचनाकार के लिए अनमोल होते हैं,...आभार !!!